Aadhaar Based eKYC Of LPG Customers: सरकार के इस कदम से फर्जी LPG सिलेंडर धारकों को मुश्किल होगी, जानें क्या है नई योजना।

Aadhaar Based eKYC Of LPG Customers: सरकार के इस कदम से फर्जी LPG सिलेंडर धारकों को मुश्किल होगी, जानें क्या है नई योजना।

Aadhaar Based eKYC Of LPG Customers- पेट्रोलियम मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने बताया कि एलपीजी सिलेंडर के लिए ई-केवाईसी प्रमाणीकरण पर काम चल रहा है। उन्होंने कहा कि फर्जी कार्डों को समाप्त करने के लिए यह कदम जरूरी है। पूरी खबर पढ़ें…

नई दिल्ली: पेट्रोलियम मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि सरकारी तेल कंपनियाँ एलपीजी गैस सिलेंडर ग्राहकों का आधार आधारित ई-केवाईसी प्रमाणीकरण कर रही हैं। इसका मुख्य उद्देश्य फर्जी गैस कार्डों को समाप्त करना है। वर्तमान में, आम लोग 14.2 किलोग्राम का रसोई गैस सिलेंडर 803 रुपये में खरीदते हैं, जबकि होटल और रेस्तरां जैसे व्यावसायिक प्रतिष्ठान 19 किलोग्राम का सिलेंडर 1646 रुपये में खरीदते हैं। इससे उन पर अतिरिक्त वित्तीय बोझ पड़ता है, जिससे कुछ व्यावसायिक कंपनियाँ और लोग फर्जी कार्ड बनाकर रसोई गैस सिलेंडर ले लेते हैं। हरदीप सिंह पुरी ने बताया कि पिछले 8 महीनों से सरकारी तेल कंपनियाँ ई-केवाईसी प्रक्रिया चला रही हैं।

ई-केवाईसी का उद्देश्य

इस प्रक्रिया के तहत सरकारी तेल कंपनियाँ एलपीजी ग्राहकों को सत्यापित करने और फर्जी खातों को समाप्त करने के लिए आधार आधारित ई-केवाईसी का उपयोग कर रही हैं। इसका उद्देश्य उन धोखेबाज ग्राहकों की पहचान करना और उन्हें हटाना है जो घरेलू नामों से रसोई गैस बुक करके उसका व्यावसायिक उपयोग करते हैं। (Aadhaar Based eKYC Of LPG Customers)

Aadhaar Based eKYC Of LPG Customers
Aadhaar Based eKYC Of LPG Customers: सरकार के इस कदम से फर्जी LPG सिलेंडर धारकों को मुश्किल होगी, जानें क्या है नई योजना।

ई-केवाईसी कैसे करें

एलपीजी गैस उपभोक्ता ई-केवाईसी प्रक्रिया को बहुत आसानी से पूरा कर सकते हैं।

  1. डिलीवरी स्टाफ द्वारा: एलपीजी गैस डिलीवरी स्टाफ आपके आधार विवरण की जांच करेगा और अपने मोबाइल फोन पर एक ऐप के जरिए आपके आधार विवरण को कैप्चर करेगा। आपको अपने रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी प्राप्त होगा, जिसे दर्ज करके ई-केवाईसी प्रक्रिया पूरी की जा सकती है।
  2. गैस वितरक के शोरूम पर: उपभोक्ता सीधे गैस वितरक के शोरूम में जाकर ई-केवाईसी सत्यापन प्रक्रिया को पूरा कर सकते हैं।
  3. ऑनलाइन ऐप के माध्यम से: उपभोक्ता सीधे तेल कंपनियों के ऐप को इंस्टॉल करके ई-केवाईसी प्रक्रिया को स्वयं पूरा कर सकते हैं।

ई-केवाईसी प्रक्रिया को पूरा करने के लिए कोई समय सीमा नहीं है। हरदीप सिंह पुरी ने स्पष्ट किया कि रसोई गैस उपभोक्ताओं को डरने की कोई आवश्यकता नहीं है। (Aadhaar Based eKYC Of LPG Customers)

तेल मंत्रालय के तहत पेट्रोलियम योजना और विश्लेषण सेल के आंकड़ों के अनुसार, भारत में 32.64 करोड़ एलपीजी गैस सिलेंडर उपयोगकर्ता हैं।

ये भी पढ़ें :- प्रधानमंत्री के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल हुए जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष नवनीत चतुर्वेदी

देश